Cricket Sports

टेस्ट क्रिकेट इतिहास में Top 5 सबसे सफल गेंदबाज-क्षेत्ररक्षक Combination

Best 5 Most Extra-Ordinary Successful Bowler-Fielder Combination in Test Cricket History

टेस्ट क्रिकेट को कई प्रशंसकों द्वारा खेल का ‘purest form’ कहा जाता है। इसके पीछे कारण यह है कि केवल उच्च गुणवत्ता वाले खिलाड़ी ही टेस्ट क्रिकेट में सफल हो सकते हैं। इस प्रारूप में धैर्य की आवश्यकता है। इसके लिए चरित्र चाहिए। इसके अलावा, खिलाड़ियों के पास शीर्ष स्तर के कौशल के साथ-साथ सहनशक्ति का स्तर भी होना चाहिए।

टेस्ट 5 दिनों तक चलते हैं। इसलिए, यदि कोई खिलाड़ी फिट नहीं है, तो वह सफल नहीं होगा। उसी तरह, टेस्ट के लिए उचित तकनीकों की आवश्यकता होती है । टी 20 सितारे अक्सर टेस्ट क्रिकेट से दूर रहते हैं क्योंकि उनके पास ठोस तकनीक नहीं है। आमतौर पर टेस्ट क्रिकेट में क्लोज-इन फील्डिंग का इस्तेमाल किया जाता है। कुछ खिलाड़ी उस कौशल में माहिर हैं। वे दूसरों की तुलना में अधिक कैच लेते हैं, और यहां टेस्ट इतिहास में शीर्ष 5 गेंदबाज-क्षेत्ररक्षक संयोजन हैं।

Top 5 Most Extra-Ordinary Successful Bowler-Fielder Combination in Test Cricket History

5. Nathan Lyon – Steve Smith: 40 catches

नाथन लियोन (Nathan Lyon) ऑस्ट्रेलिया (Australia) के प्रमुख स्पिनर हैं। स्टीव स्मिथ (Steve Smith) आम तौर पर स्लिप में फील्ड करते हैं। स्मिथ एक बेहतरीन कैचर हैं। उसे स्लिप पर खड़े होकर कैच छोड़ते हुए देखना दुर्लभ है। अक्सर, वह अपनी टीम के लिए आधे मौके भी जुटा लेता है।

अब तक, लियोन और स्मिथ आठ वर्षों तक एक साथ खेले हैं। इन आठ वर्षों में, वहाँ 40 बर्खास्तगी उन्हें शामिल किया गया है। लियोन गेंदबाजी करते है और वह सुनिश्चित करते है कि बल्लेबाज गलती करें। स्टीव स्मिथ ने मौके का इस्तेमाल कर कैच लपक लेते है।

4. Harbhajan Singh – Rahul Dravid: 51 catches

हरभजन सिंह (Harbhajan Singh) भारत (India) के शीर्ष स्पिनरों में से एक थे। वह आधिकारिक तौर पर सेवानिवृत्त (Retired) नहीं हुए हैं। हालांकि, वह भारत के लिए फिर से टेस्ट क्रिकेट खेलने की संभावना बहुत कम है। राहुल द्रविड़ (Rahul Dravid) के साथ उनकी शानदार साझेदारी थी। राहुल अपने दौर के शीर्ष क्षेत्ररक्षकों में से एक थे।

द्रविड़ ने करीबी स्थिति में कुछ शानदार कैच लपके। कुल मिलाकर, उन्होंने हरभजन की गेंद पर 51 कैच लपके। सिंह ने द्रविड़ की कप्तानी में काफी मैच खेले। इसलिए, द्रविड़ और हरभजन में काफी अच्छी बॉन्डिंग थी। वे टेस्ट क्रिकेट इतिहास में दूसरी सबसे सफल भारतीय जोड़ी हैं।

3. Shane Warne and Mark Taylor: 51 catches

शेन वॉर्न (Shane Warne) अब तक के सबसे महान लेग स्पिनर हैं। उन्होंने अपने करियर में 708 विकेट लिए। वार्न एक विवादास्पद खिलाड़ी थे। लेकिन वह मैदान पर बहुत सफल भी रहे। मार्क टेलर (Mark Taylor) उनके शीर्ष साझेदारों में से एक थे।

टेलर ने वार्न की गेंद पर 51 कैच लपके। उन्होंने 1992 से 1998 तक एक साथ टेस्ट क्रिकेट खेला। इसलिए, टेलर और वार्न ने बहुत सफलता हासिल की। वे टेस्ट में सबसे सफल ऑस्ट्रेलियाई गेंदबाज-क्षेत्ररक्षक जोड़ी बने हुए हैं। यह देखना दिलचस्प होगा कि क्या स्मिथ-लियोन उनसे आगे निकल सकते हैं।

2. Anil Kumble and Rahul Dravid: 55 catches

जैसा कि आगे बताया गया है, द्रविड़ अपने समय के सर्वश्रेष्ठ कैचर्स में से एक थे। वह इस सूची में दो बार दिखाई दे रहे है। यह तथ्य उपर्युक्त दावे को ठोस बनाता है। उन्होंने हरभजन की गेंद पर 51 कैच लपके। अनिल कुंबले और द्रविड़ की जोड़ी के नाम पर चार और आउट हुए।

कुंबले और द्रविड़ दोनों आईपीएल में आरसीबी के लिए खेले। उन्होंने टीम इंडिया की कप्तानी भी की। उनके पास एक बहुत बड़ा अनुभव था। दोनों ने 1996 से 2008 तक एक साथ खेला। इस अवधि में, वे 55 बल्लेबाजों को ड्रेसिंग रूम में वापस भेजने में कामयाब रहे।

1. Most Successful Bowler-Fielder Pair in Test Cricket History – Muttiah Muralitharan and Mahela Jayawardene: 77 catches

इस श्रीलंकाई जोड़ी की तुलना में किसी भी अन्य गेंदबाज-क्षेत्ररक्षक की जोड़ी के पास अधिक खारिज (dismissals) नहीं है। मुथैया मुरलीधरन (Muttiah Muralitharan) ने 800 टेस्ट विकेट लिए। उनमें से 77 को महेला जयवर्धने (Mahela Jayawardene) ने कैच किया। महेला श्रीलंका (Sri Lankan) के पूर्व कप्तान हैं। उन्होंने अब सभी प्रारूपों से संन्यास ले लिया है।

यहां तक कि मुरलीधरन ने भी खेल से विदाई ले ली। दोनों ने 1997 से 2010 तक 77 बल्लेबाजों को आउट किया। जयवर्धने ने अपने टेस्ट करियर में 205 कैच पकड़े। 77 मुरलीधरन की गेंदबाजी से बाहर आए। यह दोनों द्वीपवासियों (islanders) की उत्कृष्ट साझेदारी और विश्वसनीयता को दिखाता है।

REF:- https://bit.ly/3rkFH1N